• Time -
Breaking News
  1. महिला हिंसा के विरुद्ध चलने वाले पखवारे का हुआ आगाज
  2. सहारा वृद्धाश्रम में रह रहे बुजुर्गों की हुई स्वास्थ्य जांच
  3. सदर अस्पताल में मिलेगी सिटी स्कैन की सुविधा डीएम ने किया उद्धघाटन

news-details
Politics

एनडीए गठबंधन एवं महागठबंधन के नीतियों में कोई अंतर नहीं- प्रो. आलोक

बहुजन क्रांति मोर्चा के प्रमंडलीय प्रभारी प्रोफेसर आलोक कुमार ने बयान जारी कर कहा कि बिहार में भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन एवं महागठबंधन के आर्थिक नीतियों एवं सामाजिक नीतियों में कोई अंतर नहीं है। दोनों ही गठबंधन एस.सी,एस.टी, ओबीसी एवं माइनोरिटीज के सवालों को दरकिनार कर झूठा विकास का वादा कर बहुसंख्यक बहुजन समाज को दिग्भ्रमित करने का काम रहा है। सीमांचल क्षेत्र में आजादी के बाद से निरक्षरता, विकास एवं किसी भी तरह के रोजी रोजगार की व्यवस्था नहीं की गई। धार्मिक ध्रुवीकरणों के द्वारा दोनों ही गठबंधन के प्रमुख दलों के द्वारा एस.सी ,एस.टी, ओबीसी एवं माइनोरिटीज को सिर्फ वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल किया गया इन दलों के विधायकों के द्वारा सरकारी योजनाओं की लूट ,माफिया एवं अपराध कर्मियों का बढ़ावा, किसी भी तरह धन उपार्जन करना ही मुख्य मकसद रहा है। ऐसी परिस्थिति में पूर्णिया प्रमंडल के बहुसंख्यक 90% आबादी वाले बहुजन समाज को अपने हक की लड़ाई के लिए स्थानीय स्तर पर सामाजिक एवं राजनीतिक गोलबंदी के आधार पर इन दलों को विधानसभा चुनाव में जवाब देना पड़ेगा। पूर्णिया विधानसभा जैसे क्षेत्रों में दोनों ही गठबंधन ऐसे उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतारा है ,जिनका कहीं कोई सामाजिक आधार नहीं है। इस क्षेत्र में 90% एस.सी, एस.टी, ओबीसी एवं माइनोरिटीज कि बहुलता है। प्रोफ़ेसर कुमार ने कहा एस.सी ,एस.टी ,ओबीसी के आरक्षण, सरकारी क्षेत्र के कंपनियों एवं रेलवे जैसे महत्वपूर्ण विभागों को निजी क्षेत्र में देने ओबीसी के जातीय जनगणना, एस.सी, एस.टी के प्रमोशन के रिजर्वेशन, मंडल कमीशन रिपोर्ट को आधे- अधूरे ढंग से लागू करने एवं सभी तरह के भर्तियों को ठेका पर देने जैसे सवालों को भाजपा एवं कांग्रेस दोनों ही मिलकर निष्प्रभावी बना रहा है ।ऐसी परिस्थिति में इन वर्गों के लोगों को स्थानीय स्तर पर अपने बीच के प्रतिनिधियों को विधानसभा भेजना पड़ेगा।अब समय आ गया है कि इन समुदाय के प्रगतिशील लोगों को अपने हक की लड़ाई को विधानसभा में पहुंचाने के लिए स्थानीय स्तर पर स्थानीय मुद्दों एवं सामाजिक सशक्तिकरण के लिए मतदान का प्रयोग करना पड़ेगा




Abhinav Anand Balmukund

by Cityhalchal